मध्य प्रदेश : मंदसौर में जहरीली शराब कांड की जांच ACS होम राजेश राजौरा करेंगे, SIT का गठन कर दिया, CM शिवराज ने कहा की…

Mandsaur Poisonous Liquor Scandal

भोपाल। मंदसौर जहरीली शराब कांड (Mandsaur Poisonous Liquor Scandal) की जांच के लिए सरकार ने एसआईटी (SIT) का गठन कर दिया है. गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा को एसआईटी का अध्यक्ष बनाया गया है. 3 सदस्यों की टीम में 2 आईपीएस अफसरों (2 IPS officers) को भी शामिल किया गया है. यह एसआईटी (SIT) पूरे मामले से जुड़े हर एक पहलू पर जांच के बाद अपनी रिपोर्ट सरकार को भेजेगी.

गृह विभाग ने घटना की जांच के लिए एसआईटी (SIT) का गठन किया है. इसका अध्यक्ष गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा को बनाया गया है. एसआईटी का सदस्य जीपी सिंह ADG सतर्कता पुलिस मुख्यालय, एमएस सिकरवार IG रेल भोपाल (Bhopal) को बनाया है.

इसे भी पढ़ें :- Mp News: Bhopal Smart City Project में करोड़ों का घोटाला सामने आया है, शिकायत EOW में की गई

जहरीली शराब से 6 लोगों की मौत हुई थी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने मंत्रालय में अवैध शराब की रोकथाम पर बैठक ली. बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, वाणिज्य कर एवं वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव वाणिज्य कर दीपाली रस्तोगी और पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी मौजूद थे.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहा की

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने कहा जहरीली शराब से मौत हत्या से कम नहीं है. जहरीली शराब बनाने और बेचने को संगीन अपराध की श्रेणी में रखा जाए और कठोरतम दंड की व्यवस्था की जाए. इस संबंध में कानून में आवश्यक संशोधन किए जाए. संपूर्ण प्रदेश में अवैध मदिरा के विरुद्ध तत्काल प्रभाव से अभियान आरंभ किया जाए. मंदसौर के ग्राम खकरई में हुई घटना के दोषियों को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाए. अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा संपूर्ण प्रकरण की जाँच कर तत्काल रिपोर्ट प्रस्तुत करें.

इसे भी पढ़ें :- RPF ने मुस्तैदी से झारखंड की 4 लड़कियों को छुड़ाया, 10,000 में बेचने का सौदा किया गया था दिल्ली में

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *