mpnewsnow.com

MP: इंदौर में राशन घोटाले में एसआईटी का गठन, व्यापक जांच

mpnewsnow.com

इंदौर में 80 लाख रुपये के राशन घोटाले में एसआईटी का गठन मामले में विस्तृत जांच अब एसआईटी द्वारा की जाएगी। कलेक्टर मनीष सिंह ने मामले का खुलासा करते हुए आगे की जांच पुलिस को सौंपी है। जांच में पुलिस उन व्यापारियों का पता लगाएगी जो राशन खरीद कर बाजार में महंगे दामों पर बेचते थे। वही कल सुबह मोती तबेला स्थित प्रमुख आरोपी श्माम दवे के ऑफिस पर रिमूवल की कार्रवाई होगी 

यह भी पढ़ें – Corona Update: संक्रमितों की संख्या पहुंची 2 लाख 51 हज़ार के पार, 7 की मौत

कलेक्टर ने पकड़ा घोटाला: इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने करोड़ो का राशन घोटाला पकड़ा है। इसमें 12 राशन की दुकानों से लगभग 51 हजार गरीब परिवारों का राशन बरामद किया गया है। आरोप है कि कुछ नेताओं के संरक्षण में इन राशन माफियाओं ने ये बड़ा घोटाला किया है। इस मामले में इंदौर के फूड कंट्रोलर आरसी मीणा को सस्पेंड कर दिया गया है। आरोपियों के खिलाफ अलग अलग दस थानों में मामले दर्ज किए जाएंगे। 

यह भी पढ़ें – Haridwar: 31 जनवरी तक पूरे होंगे 95 फीसदी कुंभ कार्य, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

कलेक्टर का कहना है कि इस मामले में आरोपियों के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 5/7 आईपीसी, 420 और राशन में अमानत में खयानत की धारा 409 और 120 बी के तहत मामला दर्ज होगा। साथ ही उन्होंने बताया कि तीन प्रमुख आरोपी भरत दवे, श्याम दवे, प्रमोद दहिगुडे के खिलाफ रासुका की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें – UP: CBI जांच में खुलासा, DGQA क्लर्क भर्ती में घोटाला, फेल को कर दिया पास

बताया जा रहा है कि भरत दवे द्वारा अस्सी लाख का गबन सामने आया है। वह न सिर्फ इंदौर बल्कि प्रदेश के कई जिलों में गरीबों के राशन की कालाबाजारी करता था। पुलिस का कहना है कि गिरफ्तारी के बाद उसकी संपत्ति कुर्क कर राशि वसूली जाएगी। जिन व्यापारियों ने इन लोगों से खाद्यान्न खरीदा है उनको भी आरोपी बनाया जाएगा। कुल 31 लोगों पर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *