MP News: प्रधानमंत्री के साथ मंच पर 60 वर्ष से उम्र वाले 10 आदिवासी नेता नजर आएंगे

MP News: प्रधानमंत्री के साथ मंच पर 60 वर्ष से उम्र वाले 10 आदिवासी नेता नजर आएंगे

MP News: प्रधानमंत्री के साथ मंच पर 60 वर्ष से उम्र वाले 10 आदिवासी नेता नजर आएंगे

भोपाल। भोपाल (Bhopal) के जंबूरी मैदान में 15 नवंबर को होने वाले जनजातीय सम्मेलन में मंच पर दो कतार में 16 नेता मौजूद रहेंगे। केवल तीन नेता गैर आदिवासी होंगे, जबकि बाकी 13 नेता आदिवासी रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की मौजूदगी में पहली बार किसी सम्मेलन में 60 वर्ष से कम उम्र वाले प्रदेश के 9 आदिवासी नेता मंच पर एक साथ बैठेंगे। विशेष अतिथि केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा की उम्र 53 वर्ष है और वे झारखंड से हैं। मंच और चारों तरफ आदिवासी संस्कृति की झलक दिखेगी।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसे भी पढ़ें :- Rewa News: वेतन निर्धारण में विसंगति, जूनियर स्टाफ नर्स को सीनियर से ज्यादा मिल रहा वेतन

मंच के एक हिस्से में गोंड पेटिंग को उकेरा गया है। मंच से पीएम और सीएम के अलावा केवल तीन नेताओं को संबोधन का मौका मिलेगा। एक मंच पर सभी आदिवासियों के परंपरागत लोकनृत्य होंगे। पीएम 15 नवंबर को विशेष विमान से दोपहर 12.35 बजे भोपाल स्टेट हैंगर पहुंच जाएंगे। वे भोपाल से शाम को 4.20 बजे रवाना होंगे। प्रधानमंत्री भगवान बिरसा मुंडा और जनजातीय समाज के क्रांतिकारियों पर केंद्रित प्रदर्शनी का उद्घाटन भी करेंगे।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसे भी पढ़ें :- Rewa News: पद्मधर पार्क में उपेक्षा का ग्रहण लगातार हो रही है यहां टूट-फूट, नगर निगम नहीं दे रहा रख-रखाव पर ध्यान

पीएम मोदी (PM Modi) भोपाल से ही केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्रालय की महत्वाकांक्षी परियोजना ट्राइक्ल आउटरीच प्रोग्राम को भी देशभर में लांच करेंगे। इस परियोजना के जरिए केंद्र सरकार देशभर में आदिम जाति बहुल इलाकों में अपनी पहुंच को और मजबूत करेगी। देशभर में केरल की तर्ज पर एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूल खोले जाएंगे।

इसे भी पढ़ें :- उग्रवादियों ने कर्नल को निशाना बनाकर पत्नी, 8 साल के बेटे की मौत, 5 लोग शहीद

जिन इलाकों की 50 फीसदी से अधिक आबादी ट्राइबल है या जहां 20 हजार से अधिक आदिवासी आबादी है, वे सभी इलाके इस योजना के दायरे में आएंगे। 28 राज्यों में 2022 तक 740 ऐसे स्कूल खोलने की योजना है, जिससे 3.5 लाख जनजातीय छात्र सीधे जुड़ेंगे। अगले एक सप्ताह तक आदिमजाति बहुल आबादी वाले 21 राज्यों में 37 बड़े आयोजन किए जाएंगे, जिसकी शुरुआत भोपाल से होने जा रही है।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *