Hamidia: दर्द से कराह रहे बच्चे को डॉ. एक से दूसरे से डिपार्टमेंट भेजते रहे, मिन्नतों के बाद किया भर्ती

Hamidia: दर्द से कराह रहे बच्चे को डॉ. एक से दूसरे से डिपार्टमेंट भेजते रहे, मिन्नतों के बाद किया भर्ती

Hamidia: दर्द से कराह रहे बच्चे को डॉ. एक से दूसरे से डिपार्टमेंट भेजते रहे, मिन्नतों के बाद किया भर्ती

भोपाल। हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) के एसएनसीयू में आग की घटना में एक दर्जन बच्चों की मौत के बाद ऐसा नहीं लगता कि डॉक्टरों कोई सबक लिया हो। डॉक्टरों के असंवेदनशील व्यवहार के कारण मरीज और उनके परिजनों को तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ताजा मामला राघौगढ़ के एक बच्चे का है।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हाथीपांव (फाइलेरिया) से पीड़ित इस बच्चे के पांव में दर्द बढ़ने पर परिजन रविवार दोपहर उसे लेकर हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) पहुंचे थे। यहां पर्चा बनवाया, तब उन्हें पीडियाट्रिक सर्जरी में जाने का कहा गया। वहां डॉक्टरों ने देखने के बाद उनको प्लास्टिक सर्जरी डिपार्टमेंट जाने की सलाह दी। इस डिपार्टमेंट के स्टाफ ने उनको वापस पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट में जाकर डॉक्टरों को दिखाने का कहकर चलता कर दिया।

इसे भी पढ़ें :- Pranati Rai Prakash ने अपने को-स्टार Rithvik Dhanjani के साथ मनाया बाल दिवस, साझा किया यह मनमोहक वीडियो

ऐसे में दिनभर भटकने के बाद भी वो अपने बच्चे को न तो अस्पताल में भर्ती करा पाए और ना ही उसका इलाज ही शुरू हुआ। उन्होंने रात भी हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) परिसर में ही काटी। सोमवार सुबह अस्पताल की ओपीडी शुरू हुई तो परिजन सक्रिय हुए। दूसरे दिन भी वह एक से दूसरे विभाग में बच्चे के साथ भटक रहे थे। दोपहर बाद अस्पताल के ही एक डॉक्टर ने परिजनों की बात सुनी। उनके हस्तक्षेप के बाद पीडियाट्रिक विभाग में बच्चे को भर्ती किया गया।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

दीपावली के समय से बढ़ रहा था दर्द

परिजनों की मानें तो इस बच्चे (14 साल) को लंबे समय से हाथीपांव की बीमारी है। इस बार दीपावली के समय से पैर में काफी दर्द होना शुरू हुआ था। जो अब हररोज बढ़ता ही जा रहा था। बच्चे को तकलीफ असहनीय होने पर परिजन उसका इलाज कराने हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) पहुंचे थे।

इसे भी पढ़ें :- Rewa News: मोबाइल गेम से बढ़ रही डिप्रेशन की समस्या प्रतिमाह सामने आ रहे 70 से अधिक मरीज

जवाब देने को तैयार नहीं है जिम्मेदार

इस संबंध में हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) के जिम्मेदारों से बात करनी चाही, लेकिन ना तो पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट की एचओडी डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव ने बात की और ना ही हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital) अधीक्षक डॉ. दीपक मरावी ने ही कोई जवाब दिया।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *