दिसंबर के पहले हफ्ते से ट्रेनों में फिर मिलने लगेगा के बेडरोल और पका हुआ खाना, 92% ट्रेनें ट्रैक पर लौटीं

दिसंबर के पहले हफ्ते से ट्रेनों में फिर मिलने लगेगा के बेडरोल और पका हुआ खाना, 92% ट्रेनें ट्रैक पर लौटीं

भोपाल। ट्रेनों में दिसंबर से कुक्ड फूड और बेडरोल फिर से मिलेंगे। यात्रियों को पका हुआ भोजन परोसा जाएगा। सोमवार को रेलवे बोर्ड के डायरेक्टर सुमित सिंह ने इसके आदेश जारी कर दिए। सब कुछ ठीक रहा तो दिसंबर के पहले हफ्ते से ही चार हजार से ज्यादा राजधानी, शताब्दी, मेल एक्सप्रेस और एक्सप्रेस ट्रेनों में ये सब मिलने लगेगा।

बता दें कि 20 माह पहले 22 मार्च 2020 को जनता कर्फ्यू के दिन से ही रेलवे ने ट्रेनों के साथ ये दोनों सुविधाएं बंद कर दी थीं। पहला लॉकडाउन खत्म होने के बाद 1 जून 2020 से अब तक चरणबद्ध रेलवे ने 92 प्रतिशत गाड़ियां फिर से चला दी हैं, लेकिन इसमें ये सुविधाएं बंद हैं।

इसे भी पढ़ें :- Pranati Roy Prakash कहती है, “दुनिया में समनता रखकर इस दिन के बारे में खुलकर बात करके मनाया जाना चाहिए”

अब फिर देर रात 11:30 के बाद भी बन सकेंगे रेलवे ई-टिकट

इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आईआरसीटीसी) (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) (IRCTC) की वेबसाइट के माध्यम से अब देर रात 11:30 बजे के बाद भी ई-टिकट बन सकेंगे। इनकी शुरुआत मंगलवार रात से हो गई। रेलवे को तकनीकी सहयोग देने वाले क्रिस ने टिकटिंग सॉफ्टवेयर को अपडेट कर दिया है। इस वजह से सभी ट्रेनों के नंबर भी नियमित नंबरों से अपडेट हो गए हैं। रेल अधिकारियों के मुताबिक इस प्रक्रिया के बाद अब टिकट भी पहले के मुकाबले 20 फीसदी तक सस्ते मिल सकेंगे।

सॉफ्टवेयर के माध्यम से सभी तरह के स्पेशल नंबरों को नियमित में बदल दिया गया है। गौरतलब है कि रेलवे ने पिछले एक सप्ताह के दौरान क्रिस के माध्यम से सॉफ्टवेयर अपडेट करवाने के लिए रात 11:30 से सुबह 5:30 बजे तक ई-टिकट बनाने पर रोक लगा दी थी। रविवार देर रात यह प्रक्रिया पूरी कर ली गई और अब सभी ट्रेनों के नंबर जीरो के स्थान पर एक से शुरू होने लगे हैं। अधिकारियों का कहना है कि कुछ ही दिनों बाद कोरोना काल से पहले यात्रियों को मिल रही रियायतें भी मिलने लगेंगी। इनमें सीनियर सिटीजन टिकट पर रियायत सहित करीब 23 तरीके की रियायतें शामिल हैं।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published.