मोहनिया टनल में 60 प्रतिशत लाइनिंग का काम हो गया पूरा, 1900 मीटर में बचा काम

Rewa News: मोहनिया टनल में 60 प्रतिशत लाइनिंग का काम हो गया पूरा, 1900 मीटर में बचा काम

मोहनिया टनल में 60 प्रतिशत लाइनिंग का काम हो गया पूरा, 1900 मीटर में बचा काम

रीवा। रीवा-सीधी टू-लेन प्रोजेक्ट अंतर्गत मोहनिया टनल (Mohaniya Tunnel) में 60 प्रतिशत लाइनिंग का काम पूरा हो गया है। अभी 1900 मीटर में लाइनिंग का काम बचा है, जिसे फरवरी अंत तक पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। मोहनिया टनल (Mohaniya Tunnel) में ढांचा बनाने सहित सभी बड़े काम पूरे कर लिए गए हैं। लाइनिंग के बाद छोटे-छोटे काम बचेंगे जिसे जुलाई 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा। बताया गया है कि 1994 करोड़ के इस टनल प्रोजेक्ट की मार्च 2023 में पूरा किया जाना है।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

लेकिन एनएचएआई प्रोजेक्टर को आठ महीने पहले पूरा कर रहा है। सूत्रों के अनुसार मोहनिया टनल (Mohaniya Tunnel) की लंबाई 2290-2290 मीटर की है। दोनों टनल की कुल लंबाई 4580 मीटर की हो जाती है जबकि इसकी चौड़ाई साढ़े तेरह मीटर है। इस टनल के बन जाने के बाद रीवा से सीधी की दूरी सात किलोमीटर कम हो जाएगी साथ ही वाहनों को घुमावदार घाटी से भी निजात मिलेगी।

इसे भी पढ़ें :- एक इवेंट में Priyanka Chopra ने बोल्ड ड्रेस को कैरी करना पड़ा भारी, हुई ऊप्स मोमेंट का शिकार

7 स्थानों पर होगी कनेक्टिविटी

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

2290 मीटर की इस टबल में अंदर सात स्थानों पर कनेक्टिविटी की सुविधा दी गई है जिससे सुरंग के अंदर प्रवेश करने के बद वहन को यदि वपस लोटना हे ते वे इस कनेक्टिविटी से दूसरे टनल में आकर वापस लोट सकते हैं। वहने को यह सुविधा हर तीन सौ मीटर मसलन सात स्थानों पर मिलेगी।

ये काम बचे

इसे भी पढ़ें :- FIR दर्ज होने पर वाइन पीते Kangana ने शेयर किया बोल्ड फोटो, और लिखा, ‘गिरफ्तारी का इंतजार कर रही हूं’

मोहनिया टनल (Mohaniya Tunnel) में लाइविंग का काम अभी 1900 मीटर में बचा हुआ है। इसके अलावा अंदर लाइटिंग भी की जानी है जिससे सुरंग के अंदर का नजारा भी बाहर सूर्य की रोशनी की तरह हो। इतना ही नहीं अंदर कई स्थों पर रिफ्लेक्टर भी लगाए जाने हैं। साथ ही पूरे टनल को टीसीटीव्ही कैमरे से लेस किया जा रहा है। जिससे अंदर की गतिविधियों पर नजर रखी जा सके। इस संबंध में एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर सुमेश बांझल का कहना है कि प्रयास किया जा रहा है कि जुलाई माह में यह प्रोजेक्ट पूरा कर लिया जाय। जो थोड़े बहुत काम बचे हैं ये काम आठ माह के अंदर पूरे कर लिए जाएंगे।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *