Sinopharm Vaccine: चीनी वैक्सीन सिनोफार्म को WHO से मिली प्रयोग की मंजूरी, जानें क्या हैं इसके मायने?

 

Sinopharm Vaccine: चीनी वैक्सीन सिनोफार्म को WHO से मिली प्रयोग की मंजूरी, जानें क्या हैं इसके मायने?
सिनोफार्म वैक्सीन (AFP)

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चीन (China) के स्वामित्व वाली कंपनी सिनोफार्म (Sinopharm) द्वारा तैयार कोविड वैक्सीन (Covid Vaccine) को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. सिनोफार्म वैक्सीन गैर-पश्चिमी देश द्वारा विकसित पहला वैक्सीन है, जिसे WHO का समर्थन मिला है. चीन के अलावा कई जगह अभी तक इस वैक्सीन को लाखों लोगों को लगाया जा चुका है. WHO ने इससे पहले तक फाइजर, एस्ट्राजेनेका, जॉनसन एंड जॉनसन और मॉडर्ना द्वारा तैयार वैक्सीन को मंजूरी दी.

 

हालांकि, अफ्रीका, लैटिन अमेरिका और एशिया के गरीब मुल्कों में स्वास्थ्य रेगुलेटर्स ने इस चीनी वैक्सीन को इमरजेंसी प्रयोग की अनुमति दे दी. चीनी वैक्सीनों का बेहद की कम डाटा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जारी किया गया था. इस वजह से इन वैक्सीनों की प्रभावकारिता सवालों के घेरे में थी. लेकिन WHO ने शुक्रवार को कहा कि इसने सिनोफार्म वैक्सीन की सुरक्षा, प्रभावकारिता और गुणवत्ता को मान्यता दे दी है.

 

ये भी पढ़ें: मंगल की सतह पर Ingenuity हेलिकॉप्टर ने पूरी की पहली वन वे ट्रिप, NASA ने ऑडियो-वीडियो जारी कर सुनाई आवाज

 

सिनोवैक और स्पुतनिक वी पर भी जल्द आ सकता WHO का फैसला

WHO ने कहा कि वैक्सीन को तेजी से उन देशों में भेजा जा सकता है, जो अपने लोगों और हेल्थ केयर वर्कर्स को सुरक्षित रखने के लिए वैक्सीन की मांग कर रहे हैं. बताया गया है कि इस वैक्सीन की दो खुराक 18 साल या उससे ऊपर के लोगों को लगाई जानी है. इसके अलावा, एक अन्य चीनी वैक्सीन सिनोवैक और रूस की स्पुतनिक वी वैक्सीन को लेकर भी अभी मूल्यांकन जारी है. माना जा रहा है कि जल्द ही WHO इस पर भी निर्णय दे सकता है.

 

WHO के समर्थन देने के क्या मायने है?

विश्व स्वास्थ्य निकाय से वैक्सीन को हरी झंडी मिलने का मतलब है कि अब दुनियाभर के रेगुलेटर्स को ये गाइडलाइन मिल गई है कि वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है. WHO के महानिदेशक टेड्रोस एडहानॉम गेब्रयेसिस ने कहा कि यह देशों को अपने स्वयं के रेगुलेटर्स द्वारा वैक्सीन को मंजूरी देने में तेजी लाने के लिए विश्वास देगा. स्वास्थ्य निकाय के इस निर्णय का ये मतलब है कि अब इस वैक्सीन का इस्तेमाल वैश्विक कोवैक्स प्रोग्राम के लिए भी किया जा सकता है, जिसका गठन गरीब मुल्कों को वैक्सीन मुहैया कराने के लिए किया गया.

 

इमरजेंसी उपयोग के लिए चीनी वैक्सीन को सूचीबद्ध करने के निर्णय से कोवैक्स प्रोग्राम को काफी बढ़ावा मिलने की उम्मीद है, जो आपूर्ति की समस्याओं से जूझ रहा है. WHO की मंजूरी से पहले तक सिनोफार्म का बड़े पैमाने पर प्रयोग किया जा रहा था. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो इसकी करीब 6.5 करोड़ डोज को लोगों को लगाया गया है. चीन के अलावा, UAE, पाकिस्तान और हंगरी में इस वैक्सीन का प्रयोग किया जा रहा है.

 

ये भी पढ़ें:  Urvashi Rautela का ये पावरफुल डांस इंटरनेट पर मचा रहा है बवाल, देखें वीडियो

 

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

 

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *