मंगल की सतह पर Ingenuity हेलिकॉप्टर ने पूरी की पहली वन वे ट्रिप, NASA ने ऑडियो-वीडियो जारी कर सुनाई आवाज

 

मंगल की सतह पर Ingenuity हेलिकॉप्टर ने पूरी की पहली वन वे ट्रिप, NASA ने ऑडियो-वीडियो जारी कर सुनाई आवाज
मंगल की सतह पर Ingenuity हेलिकॉप्टर उड़ान भरते हुए (NASA)

 

अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA ने अपने मिनी हेलिकॉप्टर Ingenuity का मंगल ग्रह (Planet Mars) की सतह पर उड़ान भरने का ऑडियो और वीडियो जारी किया है. इस मिनी हेलिकॉप्टर ने अपनी पांचवी टेस्ट फ्लाइट को वन वे ट्रिप के जरिए पूरा किया. इसने राईट ब्रदर्स फील्ड से 129 मीटर दूर स्थित एक अन्य एयरफील्ड तक उड़ान भरी. इस दौरान इसने 10 मीटर की ऊंचाई तक उड़ान भी भरी और जमीन पर लैंड करने से पहले कुछ तस्वीरों को लिया. फ्लाइट टेस्ट का ये वीडियो-ऑडियो Ingenuity के रोबोटिक पार्टनर परसिवरेंस रोवर (Perseverance Rover) ने एक फुटबॉल फील्ड की दूरी से रिकॉर्ड किया है.

 

ऑडियो के साथ वाले इस वीडियो में एक मंगल की हवा की कोमल और गुनगुनाहट भरी आवाज को सुना जा सकता है. वीडियो फ्रेम में Ingenuity को उड़ान भरने से पहले दाहिनी ओर देखा जा सकता है. जब हेलिकॉप्टर उड़ान भरता है तो हवा की गुनगुनाहट बढ़ जाती है. इस दौरान हेलिकॉप्टर के 2,537 आरपीएम पर घूमते हुए इसे ऊपर उठाते हैं. परसिवरेंस रोवर के मास्टकैम-जेड डिवाइस ने वीडियो को लिया है. इस कैमरे के जरिए Ingenuity के कई बेहतरीन तस्वीरों और वीडियो को पहले भी धरती पर भेजा गया है, लेकिन उन्हें कभी ऑडियो के साथ नहीं मिलाया गया था.

 

आवाज से मंगल के वातावरण को समझने में मिलेगी मदद

रोवर में लगे सुपरकैम माइक्रोफोन के प्रमुख डेविड मिमौन ने एक बयान में कहा कि पृथ्वी पर किए गए टेस्ट से हमें लगता था कि माइक्रोफोन मुश्किल से ही Ingenuity फ्लाइट की आवाज को रिकॉर्ड कर पाएगा. उन्होंने कहा कि लेकिन अब हेलिकॉप्टर के ब्लेड्स की आवाज और मंगल की सतह पर बहने वाली हवा की सुनकर आश्चर्य हो रहा है. मंगल के वातावरण को समझने के लिए ये रिकॉर्डिंग एक सोने की खदान से कम नहीं है.

 

19 अप्रैल को पहली बार भरी मंगल पर उड़ान

चार पाउंड वजनी हेलिकॉप्टर NASA के परसिवरेंस रोवर के भीतर फिट किया गया था और ये 4 अप्रैल को मंगल की सतह पर उतरा. 19 अप्रैल को जब Ingenuity हेलिकॉप्टर ने पहली बार उड़ान भरी तो इसने इतिहास रच दिया. दरअसल, ये पहला मौका था, जब पृथ्वी के इतर किसी दूसरे ग्रह पर हेलिकॉप्टर को उड़ाया गया हो. शुरुआत में इंजीनियरों ने पांच फ्लाइट टेस्ट करने की योजना बनाई थी, ताकि परसिवरेंस रोवर प्राचीन जीवन के तलाश के अपने प्रमुख काम को कर सके. टेस्ट फ्लाइट के दौरान रोवर ने एक कैमरामैन का काम किया है. वहीं, अब इंजीनियरों ने हेलिकॉप्टर की परफॉर्मेंस को देखते हुए अधिक टेस्ट फ्लाइट करने की योजना बनाई है.

 

ये भी पढ़ें: कश्मीर पर छाती पीटने वाले पाकिस्तान के बदले सुर, विदेश मंत्री कुरैशी बोले- ‘अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मामला’

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.