कश्मीर पर छाती पीटने वाले पाकिस्तान के बदले सुर, विदेश मंत्री कुरैशी बोले- ‘अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मामला’

 

कश्मीर पर छाती पीटने वाले पाकिस्तान के बदले सुर, विदेश मंत्री कुरैशी बोले- 'अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मामला'
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

 

पाकिस्तान (Pakistan) दुनियाभर में छाती पीट-पीटकर कश्मीर (Kashmir) पर दावा करता रहता है. लेकिन उसकी बातों को कोई तवज्जो नहीं देता है, क्योंकि दुनिया को मालूम है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. वहीं, कश्मीर को लेकर इस बार इमरान खान (Imran Khan) की सरकार की जबरदस्त बेइज्जती हुई है. दरअसल, पाकिस्तान के समा टीवी को दिए एक इंटरव्यू में पड़ोसी देश के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) को हटाना भारत का आंतरिक मुद्दा है. उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम को भारतीय सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी दी गई है.

 

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने इस इंटरव्यू की क्लिप को ट्विटर पर साझा किया है, जिसमें शाह महमूद कुरैशी को कश्मीर पर बयान देते हुए सुना जा सकता है. इंटरव्यू में पाकिस्तानी विदेश मंत्री कहते हैं, ‘मेरे विचार में अनुच्छेद 370 ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है. ये भारत का आंतरिक मामला है.’ इस पर इंटरव्यू ले रहे पत्रकार ने सवाल किया कि आपके लिए क्या महत्वपूर्ण है? इस पर कुरैशी कहते हैं, ‘हमारे लिए 35A ज्यादा मायने रखता है.’ पाकिस्तानी विदेश मंत्री कहते हैं, ‘भारत 35A के जरिए कश्मीर की जनसांख्यिकी को बदलने की कोशिश कर सकता है.’

 

विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाना जरूरी: कुरैशी

यहां गौर करने वाल बात ये है कि कुरैशी ने दावा किया है कि भारत द्वारा अनुच्छेद 370 को हटाने को लेकर देश में एक बड़ा तबका मानता है कि इसका कोई फायदा नहीं हुआ है. पीटीआई नेता ने इस बात पर भी जोर दिया कि सभी विवाद के मुद्दों को बातचीत के जरिए ही सुलझाया जा सकता है क्योंकि युद्ध आत्मघाती कदम होगा. पाकिस्तानी विदेश मंत्री के इस बयान से कश्मीर को लेकर उसके रुख में बदलाव को देखा जा सकता है. अब तक इस्लामाबाद कहता आ रहा था कि जब तक कश्मीर में अनुच्छेद 370 की बहाली नहीं हो जाती है, तब तक भारत के साथ संबंध सामान्य नहीं हो सकते हैं.

 

दोनों मुल्कों के बीच पिछले दरवाजे से बातचीत जारी

शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि विवाद को सुलझाने के लिए बातचीत के अलावा कोई और विकल्प नहीं है. दोनों देश परमाणु संपन्न मुल्क हैं, जिनके बीच विवाद के कई मुद्दे हैं, जिन्हें या तो आज, कल या परसों सुलझाने की जरूरत है. दोनों देशों के बीच युद्ध होना कोई विकल्प नहीं है. युद्ध आत्मघाती कदम साबित हो सकता है. पाकिस्तानी विदेश मंत्री का ये बयान ऐसे समय पर आया है, जब इस बात की जानकारी मिल रही हैं कि दोनों मुल्कों के बीच पिछले दरवाजे से बातचीत चल रही है. ऐसे में माना जा रहा है कि इसी बातचीत का ही नतीजा है कि पाकिस्तान का कश्मीर को लेकर अपनाया जाना वाला रुख बदलते हुए नजर आ रहा है.

 

ये भी पढ़ें: Oxford-AstraZeneca की वैक्सीन से बन रहे खून के थक्के, घबराया ब्रिटेन, 40 से कम उम्र के लोगों को नहीं लगेगा ये टीका

 

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *