अंबानी घर के पास मिली कार में नया मोड़, मौत से पहले कार मालिक ने CM को लिखी चिट्ठी

mp news now

मुम्बई। मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani) के घर के बाहर विस्फोटकों से लदी स्कॉर्पियो के मिलने की गुत्थी और उलझती जा रही है। इस संदिग्ध स्कॉर्पियो से जुड़े कार पार्ट्स डीलर हिरेन मनसूख ने मौत से पहले पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने दावा किया था कि उन्हें पुलिस अधिकारियों और पत्रकारों की ओर से परेशान किया जा रहा है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray), राज्य के गृह मंत्री और मुंबई पुलिस प्रमुख को लिखे अपने पत्र में मृतक मनसूख ने कानूनी कार्रवाई और पुलिस सुरक्षा की मांग की थी। आपको बता दें कि पिछले हफ्ते मुकेश अंबानी के घर के पास मिले विस्फोटक से लदी गाड़ी के मालिक हिरेन मनसुख का शव शुक्रवार को ठाणे में एक नाले के किनारे पड़ा मिला था।

यह भी पढ़ें – Corona News: शहरों में कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए फिर से कर्फ्यू की तैयारी

दरअसल, शुक्रवार को अंबानी के घर मिले संदिग्ध वाहन में उस वक्त बड़ा मोड़ आया, जब 45 वर्षीय मनसूख का शव मुंबई के ठाणे में नदी किनारे बरामद हुआ था। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया था कि लगभग 45 वर्षीय मनसुख गुरुवार रात से लापता था और फिर अगले दिन मुंब्रा रेती बुंदर रोड से लगी एक नदी के किनारे पर उसका शव मिला था।

CM को लिखी थी चिट्ठी

अंबानी के घर के बाहर मिली स्कॉर्पियों गाड़ी के मालिक हीरेन मनसुख ने मौत से एक दिन पहले राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को खत लिखा था। इस पत्र में उन्होंने पुलिस अधिकारियों और पत्रकारों द्वारा परेशान किए जाने की बात कही थी। हीरेन ने अपने पत्र में राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गृहमंत्री और पुलिस प्रमुख से कानूनी कार्रवाई और सुरक्षा की मांग की थी। 2 मार्च को अपने पत्र में मनसुख ने बताया था कि कैसे उसकी कार चोरी हुई थी और किस तरह से उसे पुलिस द्वारा परेशान किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें – MP NEWS: महाकाल के दर्शन के लिए भक्तों को करना पड़ेगा प्री-बुकिंग

BJP ने साधा निशाना

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेन्द्र फड़णवीस ने कहा कि मुख्य गवाह की मौत से संकेत मिलता है कि कुछ गड़बड़ है। उन्होंने कहा कि मैं मांग करता हूं कि मामले की जांच एनआईए से करवाई जाए।

उधर..महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि मामला महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) को ट्रांस्फर कर दिया गया है। इससे पहले अनिल देशमुख ने एक बयान में बताया था कि यह कार हीरेन देशमुख की नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.