Flipkart Wholesale ने लांच किया ’स्कैन 2 बाय’, बिजनेस करना होगा और आसान

Flipkart Wholesale ने लांच किया ’स्कैन 2 बाय’, बिजनेस करना होगा और आसान

8 दिसंबर 2021 को भारत में विकसित फ्लिपकार्ट ग्रुप के डिजिटल बी2बी मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) ने अपने किराना एवं रिटेलर सदस्यों को खरीददारी का बेहतर अनुभव देने के लिए ’स्कैन 2 बाय’ (scan 2 buy) फीचर अपने ईकॉमर्स ऐप पर शुरु कर दिया है।

’स्कैन 2 बाय’ (scan 2 buy) का लक्ष्य है स्टोर में आकर खरीददारी करने वाले सदस्यों के बीच ईकॉमर्स को बढ़ावा देना, यह फीचर इस प्लैटफॉर्म के विज़न ’बिज़नेस बनाए आसान’ को मजबूती प्रदान करेगा। प्लैटफॉर्म के ऐप के जरिए सभी 28 फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) बैस्ट प्राइस स्टोर्स के लिए जारी किया गया यह फीचर ’स्कैन 2 बाय’ (scan 2 buy) लांच के केवल 10 दिनों के भीतर इस उपलब्धि का गवाह बना है की स्टोर में आकर खरीददारी करने वाले सदस्यों के बीच ईकॉमर्स अपनाए जाने में 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

आदर्श मेनन, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट एवं हैड, फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) ने कहा, ’’फ्लिपकार्ट होलसेल निरंतर छोटे किराना और एमएसएमई उद्यमों की वृद्धि एवं समृद्धि पर ध्यान देता है। इसी कोशिश को आगे बढ़ाते हुए हमने अपने ईकोसिस्टम को आधुनिक बनाने के लिए एक और कदम उठाया है जिसके तहत हमने अपने सदस्यों के लिए प्रौद्योगिकी की ताकत उपयोग किया है। हमारे स्टोर में आकर खरीददारी करने वाले अपने सदस्यों को ईकॉमर्स के फायदे देने से ईकॉमर्स को अपनाए जाने में तेज़ी आएगी तथा किराना व रिटेल कारोबारियों को व्यापार में सुविधा व आसानी होगी। भारत में विकसित प्लैटफॉर्म होने की वजह से छोटे कारोबारियों व किराना दुकानदारों की परेशानियों को समझते हैं और इसलिए उनकी ईकॉमर्स यात्रा को कामयाब बनाने के लिए हम उनके साथी बनकर उनके लिए नए-नए समाधान लाते रहेंगे।’’

इसके साथ, फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) का लक्ष्य है की किराना कारोबारियों को ईकॉमर्स अपनाने में जो तकनीकी अड़चनें आती हैं उनका समाधान किया जाए। यह फीचर किराना कारोबारियों को सुविधा देता है कि वे स्टोर के जाने-पहचाने माहौल में डिजिटल कार्ट खरीद कर सकें।

इससे इनस्टोर खरीद में ईकॉमर्स को बढ़ावा मिलेगा

  • रिटेलरों और किराना कारोबारियों को व्यापार में आसानी देने के लिए टेक्नोलॉजी को सुगम बनाया गया
  • ’स्कैन 2 बाय’ (scan 2 buy) तेज़ चैकआउट के साथ तुरंत व सरल खरीददारी अनुभव को मुमकिन बनाता है
  • लांच के महज़ 10 दिनों के भीतर इस फीचर को किराना सदस्यों ने अपनाया और ईकॉमर्स में 30 प्रतिशत का योगदान दिया

यह कैसे काम करता है

’स्कैन 2 बाय’ (scan 2 buy) फीचर एक प्रमुख चुनौती का समाधान करता है जो ग्राहकों को चैकआउट से पहले अपना डिजिटल कार्ट बनाते वक्त पेश आती है। औसतन 25-50 आइटमों के कार्ट साइज़ पर चीजों के नाम खुद टाइप करना बहुत बोझिल और समय लेने वाला काम है। फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) सदस्य अब ईकॉमर्स ऐप में स्कैन विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं और आइटम की पैकेजिंग पर बारकोड को स्कैन कर के तुरंत प्रोडक्ट डिटेल पेज पर पहुंच सकते हैं।

इससे कार्ट मेकिंग के मैनुअल प्रोसैस दुरुस्त करने में मदद मिलती है, ग्राहक सीधे एक डिजिटल कार्ट क्रिएट कर लेता है और चैकआउट स्पीड व क्षमता में वृद्धि होती है। एक बार डिजिटल कार्ट तैयार हो जाए तो स्टोर में पिकर फिज़िकल कार्ट में उपलब्ध आइटमों की पिकिंग पूरी कर लेता है। जब ऑर्डर पिकिंग पूरी हो जाती है तो ऑर्डर का इनवॉइस बनता है (ऑटो प्रोसैस) और सामान की पैकिंग होती है, इसके बाद ग्राहक अपना ऑर्डर लेकर जा सकता है।

2007 में शुरु हुई फ्लिपकार्ट ने लाखों ग्राहकों, विक्रेताओं, व्यापारियों व लघु कारोबारों को इस काबिल बनाया कि वे भारत की डिजिटल कॉमर्स क्रांति का हिस्सा बन सकें। 40 करोड़ प्रयोक्ताओं वाला फ्लिपकार्ट 80 से अधिक श्रेणियों में 15 करोड़ से भी ज़्यादा उत्पाद पेश करता है। भारत में कॉमर्स को जन-जन तक पहुंचाने, पहुंच और वहनीयता को आगे बढ़ाने, ग्राहकों को खुश करने, लाखों रोजगार पैदा करने, उद्यमियों की पीढ़ियों एवं एमएसएमई को सशक्त करने वाले कदमों से हमें जो सफलता हासिल हुई उससे हमें ऐसी चीज़ें इनोवेट करने में मदद मिली जो इस उद्योग में पहली बार हुई हैं।

फ्लिपकार्ट को कैश ऑन डिलिवरी, नो कॉस्ट ईएमआई और ईज़ी रिटर्न जैसी ग्राहक केन्द्रित पहलों के लिए जाना जाता है जिन्होंने करोड़ों भारतीयों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग को ज्यादा पहुंचनीय व किफायती बना दिया। अपनी ग्रुप कंपनियों के साथ फ्लिपकार्ट टेक्नोलॉजी के माध्यम से देश में कारोबार के तरीके को बदलने के लिए प्रतिबद्ध है।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *