कोरोना ने छीना रोजगार तो दिल्ली से 5 दिन में ऑटो लेकर सुपौल पहुंचा परिवार

कोरोना ने छीना रोजगार तो दिल्ली से 5 दिन में ऑटो लेकर सुपौल पहुंचा परिवार

 

दिल्ली में लॉकडाउन लगने के बाद एक परिवार ऑटो से ही सुपौल पहुंच गया.

सुपौल. देश के कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में लॉकडाउन (Lockdown) लगने के बाद से प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers) का पलायन शुरू हो गया है. प्रवासी अपना-अपना सामान लेकर घर लौटने लगे हैं. उन्हें डर है कि लॉकडाउन लंबा खीच गया तो खाने के लाले पड़ जाएंगे. दिल्ली में रहने वाले प्रवासी मजदूरों के साथ-साथ ऑटो-टैक्सी चालक अब घर लौटने लगे हैं. ऐसा ही एक परिवार उमेश शर्मा का है, जो बिहार के सुपौल जिले का रहने वाला है.

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

 

यह परिवार पांच दिनों के सफर के बाद मंगलवार शाम ऑटो से सुपौल पहुंचा है. परिवार का मुखिया उमेश शर्मा मुताबिक, ‘दिल्ली में लॉकडाउन लगने के बाद मुझको खाने के लाले पड़ गए. केजरीवाल सिर्फ बोलते हैं, लेकिन मदद हमलोगों तक नहीं पहुंची. हमलोग सड़क पर आ गए तो फैसला किया कि अब ऑटो से ही घर निकल जाएं. ऑटो से ही सुपौल के लिए रवाना हो गए. मंगलवार को पांच दिनों की यात्रा करने के बाद गांव पहुंचे हैं.

 

पांच दिन में पहुंचा सुपौल

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

ऑटो से दिल्ली से सुपौल तक यात्रा करने वाला यह परिवार दिल्ली के केजरीवाल सरकार की व्यवस्था को नाकाफी बताया है. इस परिवार की एक महिला रंजू देवी कहती है मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं. मेरे पति का काम बंद हो गया था. हमलोग रोज कमाते हैं और रोज खाते हैं. अगर लॉकडाउन लंबा रहता तो हमलोग मर जाते. इसलिए अपने घर आ गए हैं.

 

 

ये भी पढ़ें: Samsung Mexico वेबसाइट पर गलती से लॉन्च से पहले लिस्ट हुआ Samsung Galaxy S21 FE फोन

 

 

 

17 अप्रैल से कामकाज नहीं मिल रहा था गौरतलब है कि दिल्ली में लॉकडाउन लगने के बाद यह एक अकेला परिवार नहीं है जो रोजी-रोटी छिन जाने के बाद घर पहुंचा है. उमेश शर्मा जैसे सैकड़ों परिवार हैं जो दिल्ली से पलायन कर अपने-अपने गांव पहुंचे हैं. यह परिवार मंगलवार को ही दिल्ली से ऑटो किराये पर लेकर सुपौल पहुंचा है. परिवार सुपौल के हरदी गांव का रहने वाला है. परिवार का मुखिया ऑटो चलाने का करता था. दिल्ली में 17 अप्रैल के बाद इस परिवार को भोजन पर भी आफत आने लगी थी.

 

ये भी पढ़ें: Jammu Kashmir में 7 मई तक 5000 CAPF के जवानों की होगी तैनात, गृह मंत्रालय ने दिया आदेश

 

 

हालांकि, दिल्ली सरकार दावा कर रही है कि दिहाड़ी मजदूर, निर्माण कार्य में लगे 2,10,684 पंजीकृत श्रमिकों को 5-5 हज़ार रुपये और दो महीने मुफ्त राशन देंगे. इसके साथ ही 75 लाख राशन कार्डधारकों को भी दो महीने मुफ्त राशन देगी. इसके बावजूद दिल्ली से पलायन शुरू हो गया है.

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Source link

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *