(Jerusalem: फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों और इजरायली पुलिस के बीच हिंसक झड़प, 170 से ज्यादा लोग घायल

Jerusalem: फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों और इजरायली पुलिस के बीच हिंसक झड़प, 170 से ज्यादा लोग घायल

 

यरुशलम: फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों और इजरायली पुलिस के बीच हिंसक झड़प, 170 से ज्यादा लोग घायल
यरुशलम में हिंसक झड़प (AFP)

 

यरुशलम (Jerusalem) के अल-अक्सा मस्जिद (Al-Aqsa Mosque) के बाहर शुक्रवार देर रात इजरायली पुलिस (Israeli police) और फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों (Palestinian Protestor) के बीच हिंसक झड़प हो गई. पुलिस ने पत्थर फेंकते प्रदर्शनकारियों के ऊपर रबर बुलेट्स और स्टन ग्रेनेड का प्रयोग किया. दरअसल, विवाद की वजह यहूदी सेट्लर्स (वो लोग जिन्हें फिलिस्तीन में बसाया जाता है) का उस जमीन पर दावा करना है, जो फिलिस्तीनी लोगों का घर है. यही वजह से अपने घरों को गंवाने के डर से फिलिस्तीनी लोग प्रदर्शन कर रहे हैं.

 

इस्लाम के तीसरे सबसे पवित्र स्थान और पुराने यरुशलम के आस-पास हुई इस हिंसक झड़प में 178 फिलिस्तीनी और छह पुलिस अधिकारी घायल हो गए. रमजान की शुरुआत से ही यरुशलम और वेस्ट बैंक में तनाव की शुरुआत हो गई थी. पूर्वी यरुशलम के शेख जर्राह में हर रात हिंसक झड़प की घटनाएं देखने को मिल रही थीं. शेख जर्राह में रहने वाले फिलिस्तीनी परिवार यहां से हटाए जाने के खिलाफ केस लड़ रहे हैं.

 

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए प्रयोग किया वाटर कैनन

अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र की ओर से शुक्रवार को शांति और संयम बरतने की बात कही गई. यूरोपियन यूनियन और जॉर्डन ने लोगों को हटाए जाने के खिलाफ आवाज उठायी. शुक्रवार को नमाज के लिए दसियों हजार की संख्या में फिलिस्तीनी अल-अक्सा मस्जिद पहुंचे. नमाज के बाद बड़ी संख्या में लोग शेख जर्राह को खाली कराए जाने के विरोध के लिए इकट्ठा हो गए. इफ्तार के तुरंत बाद ही अल-अक्सा के पास हिंसक झड़प की शुरुआत हो गई. पुलिस ने वाटर कैनन के जरिए प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने का प्रयास किया.

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

ये भी पढ़ें: धरती पर आज गिरेगा चीन का बेकाबू रॉकेट, क्या मचेगी ‘तबाही’ या नहीं होगा कोई नुकसान? विशेषज्ञों ने दिया इसका जवाब

 

शेख जर्राह को लेकर सोमवार को होनी है सुनवाई

अल-अक्सा मस्जिद के एक अधिकारी ने लाउडस्पीकर के जरिए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. बता दें कि इजरायल की सुप्रीम कोर्ट सोमवार को शेख जर्राह खाली कराए जाने को लेकर सुनवाई करेगी. इस दिन ही इजरायल ‘यरुशलम डे’ मनाता है, जो 1967 के मध्यपूर्व युद्ध में जीत मिलने के बाद पूर्वी यरुशलम पर कब्जा जमाने को चिन्हित करता है. फिलिस्तीन रेड क्रिसेंट एम्बुलेंस सेवा ने बताया कि रबर बुलेट्स से घायल हुए 88 फिलिस्तीनी लोगों को अस्पताल ले जाया गया है.

 

हिंसा करने वाले लोगों को किया जाएगा गिरफ्तार: इजरायली पुलिस

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों ने पत्थर, पटाखे और अन्य वस्तुओं को पुलिस अधिकारियों की ओर फेंका. इसमें छह पुलिस अधिकारी घायल हुए हैं, जिनका इलाज चल रहा है. प्रवक्ता ने कहा, हम किसी भी हिंसक गड़बड़ी, दंगा या हमारे अधिकारियों को नुकसान पहुंचाने पर कड़ा जवाब देंगे और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को पकड़ने का काम करेंगे. दूसरी ओर, फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा, वह इस पवित्र शहर में होने वाले हमलों और खतरनाक गतिविधियों के लिए इजरायल को दोषी मानते हैं.

 

 

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

 

Source link

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *