Afghanistan की राजधानी काबुल में ईंधन के टैंकरों में लगी भीषण आग, कम से कम 10 लोग जख्मी

 

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में ईंधन के टैंकरों में लगी भीषण आग, कम से कम 10 लोग जख्मी

ईंधन के टैंकरों में लगी भीषण आग (File Photo)

अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में शनिवार देर रात उत्तरी छोर पर ईंधन के कई टैंकरों (Fuel Tanker Fire) में आग लग गई. इस घटना में कम से कम 10 लोग घायल हुए. अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. तत्काल इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है कि आग दुर्घटनावश लगी या जानबूझकर लगाई गई है. यह घटना ऐसे समय में हुई है अमेरिका (America) और नाटो (NATO) के आखिरी बचे सैनिकों की देश से वापसी शुरू हो गई है. इस तरह अफगानिस्तान में अमेरिका के सबसे बड़े युद्ध की समाप्ति हो जाएगी.

 

सभी 2,500-3,500 अमेरिकी सैनिकों और करीब 7,000 नाटो संबद्ध बलों के 11 सितंबर तक अफगानिस्तान से वापस बुला लिया जाएगा. यह वही दिन है जब अमेरिका में हुए 9/ 11 के आतंकवादी हमलों के कारण सैनिकों को अफगानिस्तान भेजा गया था. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता तारिक अरियान (Tariq Arian) ने कहा कि यह आग तब लगी … जब चिंगारी से ईंधन के एक टैंकर में आग लग गई. इसके बाद पास के कई टैंकर आग की चपेट में आ गए जिसने भीषण रूप ले लिया.

 

आग पर पा लिया गया है काबू

प्रवक्ता तारिक अरियान ने कहा कि आग की इस घटना के वक्त दर्जनों टैंकर धीरे-धीरे काबुल की तरफ बढ़ रहे थे. वे रात नौ बजने का इंतजार कर रहे थे जब ईंधन के टैंकरों और अन्य बड़े ट्रकों को शहर में प्रवेश की अनुमति होती है. उन्होंने कहा कि आग पर काबू पा लिया गया. तोड़-फोड़ के तत्काल साक्ष्य नहीं मिले हैं. लेकिन इस मामले की जांच शुरू हो गई है. गौरतलब है कि अमेरिकी सैनिकों के देश छोड़ने से अफगानिस्तान में तालिबान की पकड़ मजबूत होने की आशंका है.

 

अफगानिस्तान में ‘गृह युद्ध’ का खतरा !

बता दें कि अफगानिस्तान में जबसे अमेरिकी सैनिकों के देश छोड़ने की शुरुआत हुई है, तब से आतंकी घटनाओं में वृद्धि होती भी नजर आ रही है. अफगानी नेताओं को इस बात का डर है कि अगर अमेरिकी सैनिक देश छोड़ते हैं तो इससे गृह युद्ध का खतरा मंडरा सकता है. फिलहाल देश की सेना इतनी सक्षम नजर नहीं आ रही है कि वह तालिबान का मुकाबला कर सके. ऐसे में ये देखना है कि अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद अफगानिस्तान की सेना आतंकियों से कैसे निपटती है.

 

ये भी पढ़ें: प्रमुख राज्यों के विधानसभा चुनाव में एमपी के नेताओं का कितना अहम रहा रोल?

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.