Rewa News: सड़क के बीच गड्ढे जो बनते हैं हादसे की वजह, डामर की जगह भर दी गिट्टी

Rewa News: सड़क के बीच बने गड्ढे हादसे की वजह बन रहे हैं। लोक निर्माण विभाग इन गड्ढे को नहीं भर रहा है। जबकि विभागीय अधिकारियों की जानकारी में यह गड्ढे हैं। शहर के अंदर की सड़कों को देखें तो न सिर्फ पुरानी सड़क बल्कि जिन सड़कों की मरम्मत हाल के एक-दो वर्षों में कराई गई है। वहां भी सड़क के बीच गड्ढे बन गये हैं। बताया गया है कि कुछ स्थानों में गड्ढों का आकार इतना बड़ा है कि दोपहिया वाहन का आधा चक्का उसमें समा “जाये।

ऐसा नहीं है कि इन गड्ड़ों में गिरकर दोपहिया वाहन सवार हादसे का शिकार हो रहे हैं। इन गड्डों को बचाने कोई दोपहिया वाहन सवार अपना वाहन किनारे करता है तो पीछे से आ रहे दूसरे वाहन से उसकी भिड़ंत हो जाती है। ऐसे हादसे भी इन गड्डों की वजह से हो रहे। हैं। सूत्रों के अनुसार जय स्तंभ चौराहे से बड़ी पुल की ओर जाने वाले मार्ग में थोड़ी दूर पर ही इतना बड़ा गड्डा है कि जब भी किसी दोपहिया वाहन का पहिया इस गड्ढे पर पड़ा है, वह वाहन हादसे का शिकार जरूर हुआ है।

Read More: रितेश और जेनेलिया की फिल्म ‘वेड’ का टीजर हुआ रिलीज

यहां सड़क के बीच बना यह गड्डा काफी समय से है। विभागीय अधिकारी इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। बताया गया है कि सतना से रीवा की ओर आने के दौरान नौबस्ता तिराहे से उन्नत पुल के बीच भी मॉडल सड़क पर एक गड्ढा है, जो चैम्बर रूप में है। यह चैम्बर रूपी गड्डा भी दोपहिया वाहनों को हादसे के लिये आमंत्रित कर रहा है। बताया गया है कि इस गड्ढे को बचाने के प्रयास में दोपहिया वाहन आपस में टकरा चुके हैं।

सिविल लाईन कालोनी के अंदर भी ऐसे गड्ढे हैं, जिनसे हर समय हादसे की संभावना बनी रहती है। सूत्रों के अनुसार जिला न्यायालय के पीछे की कांक्रीट की सड़क में कई स्थानों पर छोटे-छोटे गड्डे बन गये। हैं। जिससे सहज आवागमन मुश्किल हो रहा है। ऐसे ही गड्ढे फोर्ट रोड में एक-दो स्थानों पर थे। हालांकि इन गड़ों को अब भर दिया गया है।

Read More: ‘आशिकी 3’ अगले साल अक्टूबर से फ्लोर पर जाएगी, 2026 तक ‘भूल भुलैया 3’ भी होगी रिलीज

गड्ढों में भर दी गिट्टी

एजी कॉलेज तिराहे से बड़ी पुल के पहले तक सड़क में कई स्थानों पर बने गड्ढों में लोक निर्माण विभाग ने गिट्टी भर दी है। उस पर डामर बिछाकर उसे अभी समतल नहीं किया गया है। बताया गया है कि विभाग ने इन गड्डों में जो गिट्टी डाली है, वह भी अब गड्डों से बाहर आने लगी है। सूत्रों के अनुसार इस मार्ग में लगभग दो दर्जन से ज्यादा स्थानों पर गड्ढे बन गये थे।

जिन पर विभाग ने सिर्फ गिट्टी डालकर अपनी जिम्मेदारी पूरी मान ली है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि विभाग इन गड्डों को गिट्टी डालकर छोड़ देगा या फिर डामर बिछाकर इसका समतलीकरण भी करायेगा। यदि इन गड्डों का व्यवस्थित ढंग से समतलीकरण नहीं होता तो बड़े वाहनों के पहिये की चपेट में आकर गिट्टी इन गड्डों से बाहर आ जायेगी।

Read More: Rewa News: विवि में ठेका प्रथा समाप्त करने व नियमित नियुक्ति की मांग कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *