Rewa News: परिवहन विभाग ने नियम विरूद्ध संचालित हो रहे 21 ऑटो जब्त किए

Rewa News: रूट छोड़ मनमर्जी से दौड़ रहे ऑटो, कई मार्गों पर दिनभर बनी रहती है जाम की समस्या

Rewa News: परिवहन विभाग ने नियम विरूद्ध संचालित हो रहे 21 ऑटो जब्त किए

Rewa News: शहर में यातायात के दबाव को सामान्य करने के लिए ऑटो के रूट निर्धारित किए गए हैं लेकिन इसका पालन नहीं हो रहा है। पूरे शहर में सड़कों पर रूट को क्रास कर ऑटो मनमर्जी से दौड़ रहे हैं जिससे कई मार्गों पर यातायात का दबाव काफी ज्यादा होने से दिनभर जाम की स्थिति बनी रहती है।

दिन पर दिन बढ़ती समस्या को देखते हुए आरटीओ विभाग व यातायात पुलिस ने रूट का निर्धारण कर ऑटो के अलग-अलग कलर तय किए थे। कुछ दिन तो ऑटो चालकों ने अपने रूट का ध्यान रखा लेकिन बाद में जब पुलिस और आरटीओ विभाग ने शिथिलता बरती तो ऑटो चालकों ने निर्धारित रूट की धज्जियां उड़ाना शुरू कर दिया।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Read More: Satna News: 1 दर्जन उपभोक्ताओं पर बिजली चोरी का केस, धारा 135 के तहत बिजली चोरी का केस दर्ज

अब शहर के भीतर रूट की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। ऑटो चालकों ने खुद अपना रूट निर्धारित कर लिया है और वे इच्छानुसार शहर की सड़कों पर दौड़ रहे हैं। हैरानी की बात है कि रूट निर्धारण के बाद उसका पालन सुनिश्चित करवाने के लिए पुलिस ने ज्यादा प्रयास नहीं किया। यही कारण है कि ऑटो की मनमानी परेशानी का सबब बन गई है।

इन मार्गों पर सबसे ज्यादा समस्या

शहर के आधा दर्जन मार्गों पर ऑटो का दबाव ज्यादा होने से जाम का झाम लगा रहता है। इनमें रेलवे स्टेशन से बस स्टैण्ड, सिरमौर चौराहा, समान व रतहरा मार्ग, सिरमौर चौराहा से बोदाबाग व विवि मार्ग, सिरमौर चौराहा से अस्पताल चौराहा धोबिया टंकी मार्ग, रेलवे स्टेशन से स्टेच्यू चौराहा, अस्पताल चौराहा होते हुए धोबिया टंकी मार्ग शामिल हैं। इन मार्गों पर यातायात का भारी दबाव रहता है और ऑटो बीच रास्ते पर खड़े हो जाते हैं जिसकी वजह से जाम लग जाता है।

Read More: Rewa News: बसों के हॉर्न में बज रही थी नागिन धुन, पुलिस ने 15 पर 7500 का जुर्माना

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

दस हजार ऑटो रजिस्टर्ड

जिले में दस हजार से अधिक ऑटो रजिस्टर्ड हैं। इसमें से 70 फीसदी ऑटो शहर के भीतर और 30 फीसदी ग्रामीण क्षेत्र में चल रहे हैं। आसपास गांवों में चलने वाले ऑटो सवारियां लेकर रीवा आते हैं। ऐसे आटो अक्सर क्षमता से अधिक सवारियां बैठाकर लाते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *