मुख्यमंत्रियों के साथ आज PM मोदी करेंगे बैठक, कोरोना वायरस के ऊपर मिल सकता है जवाब

देश में जल्द ही कोरोना वायरस के खिलाफ देशव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू होने वाला है। इस महाअभियान की रूपरेखा तय करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक में केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे। शाम चार बजे होने वाली इस बैठक में टीकाकरण अभियान की रूपरेखा तैयार करने के साथ ही यह भी तय हो जाएगा कि वैक्सीन फ्री में मिलेगी या नहीं। इसके अलावा यदि फ्री में नहीं मिलती है तो इसकी क्या कीमत हो सकती है।

यह भी पढ़ें – Weather Forecast: 3 दिन बाद बढ़ेगी ठंड, कई जिलों में हो सकती है बारिश

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी बैठक
वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये होने वाली यह बैठक इसलिए खास है क्योंकि पांच दिन बाद 16 जनवरी से देश में टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया जाएगा। देश में भारतीय दवा महानियंत्रक (डीजीसीए) ने फिलहाल सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति दी है।

यह भी पढ़ें – महिला पायलटों ने रचा इतिहास, नॉर्थ पोल से होकर सैन फ्रांसिस्को से भारत पहुंची एअर इंडिया की फ्लाइट

यह अनुमति मिलने के बाद पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ यह पहली बैठक होगी। गौरतलब है कि टीकाकरण अभियान की तैयारियों को परखने और उसकी कमियों को दूर करने के लिए अभी तक तीन बार ड्राय रन किया जा चुका है।

पहले चरण में 2 करोड़ लोगों को लगेगी वैक्सीन
वैक्सीन अभियान के पहले चरण में प्राथमिकता समूह वाले 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगेगी, इसमें एक करोड़ डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्यकर्मी और कोरोना महामारी के खिलाफ अग्रिम मोर्चा पर लड़ने वाले दो करोड़ सुरक्षाकर्मी, सफाईकर्मी और नगर निगम इत्यादि के कर्मचारी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें – सुप्रीम कोर्ट में आज होंगी कृषि कानूनों से जुड़े सभी मुद्दों पर सुनवाई

फिलहाल सरकार की योजना 27 करोड़ ऐसे लोगों को टीका लगाने है, जिनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है। जिसमें 50 से अधिक उम्र के लोग और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त लोग शामिल हैं। फिलहाल यह भी खबर है कि टीकाकरण अभियान के लिए पीएम केयर्स फंड का इस्तेमाल किया जा सकता है। केंद्र सरकार ने पहले भी इस निधि से वैक्सीन विकसित करने के लिए 100 करोड़ रुपए जारी किए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.