Karwa Chauth 2022: अविवाहित लड़किया यदि करती है करवा चौथ का व्रत तो जाने पूजा विधि, तिथि और शुभ मुहूर्त, करवाचौथ की कथा

Karwa Chauth 2022: अविवाहित लड़किया यदि करती है करवा चौथ का व्रत तो जाने पूजा विधि, तिथि और शुभ मुहूर्त, करवाचौथ की कथा

Karwa Chauth 2022: भारत में विवाहित महिलाओं के लिए करवा चौथ का त्योहार बहुत महत्वपूर्ण है। इस शुभ दिन को पूर्ण रूप से पूरा करने के लिए हर साल करवा चौथ की रस्मों का पालन करने की आवश्यकता होती है। पत्नियां अपने पति की सफलता और लंबी उम्र के लिए पूरे दिन उपवास रखती हैं।

वहीं आजकल अविवाहित लड़कियां भी इन रस्मों का पालन करने लगी है और संपूर्ण जीवन साथी पाने के लिए करवा चौथ का व्रत करती हैं। ऐसा माना जाता है कि जब एक अविवाहित लड़की करवा चौथ का व्रत करती है तो उसकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और उन्हें भगवान शिव की अच्छा और प्यार करने वाला साथी मिलता है। हालांकि, अविवाहितों के लिए भी करवा चौथ की बहुत सारी रस्में हैं।

करवा चौथ व्रत विधि

करवा चौथ के सबसे महत्वपूर्ण और कठिन पहलुओं में से एक है पूरे दिन का उपवास करना। पूरे दिन सहने के लिए पर्याप्त ऊर्जा की आवश्यकता होती है। उपवास से पहले आप जो खाना खाते है, वो है सरगी, जो ज्यादातर पति के रिश्तेदारों से आती है। क्योंकि आप अविवाहित हैं तो आप कोई भी ऊर्जा बढ़ाने वाला भोजन या पेय ले सकते हैं। मुख्य बात जो आपको याद रखनी चाहिए वो ये है

करवा चौथ 2022: तिथि और शुभ मुहूर्त

तिथि: चतुर्थी
पक्ष: कृष्ण पक्ष
माह: कार्तिक
दिन: गुरुवार
करवा चौथ पूजा मुहूर्त: 13 अक्टूबर, 2022 की शाम 05 बजकर 54 मिनट से 07 बजकर 03 मिनट तक
अवधि: 1 घंटा 09 मिनट
चंद्रोदय: 13 अक्टूबर, 2022 की शाम 08 बजकर 10 मिनट पर

इसे भी पढ़ें :- सीएम शिवराज सिंह का ऐलान! मध्‍य प्रदेश में इंजीनियरिंग, नर्सिंग और पैरामेडिकल की पढ़ाई भी हिंदी में होगी

करवाचौथ की कथा

काफी समय पहले की बात है। एक साहूकार था। उसके सात पुत्र और एक पुत्री थी। सभी भाई अपनी बहन को बहुत प्यार करते थे। वहीं एक साथ ही बैठकर भोजन करते थे। एक दिन जब कराचौथ आई तो बहन ने अपनी भाभियों के साथ करवाचौथ का व्रत रखा। रात को सभी भाई खाना खाने आए और उन्होंने बहन से भी खाना खाने को कहा। तब ही मां ने कहा कि इसका करवाचौथ का व्रत है यह चांद निकलने के बाद ही खाएगी।

यह सुनकर उसके भाइयों ने जंगल में आग जलाकर छलनी में से चांद दिखा दिया। इसके बाद उसने चांद को अर्घ्य दे दिया और खाना खाने बैठ गई। जैसे ही उसने पहना टुकड़ा तोड़ा तो उसे छींक आ गई और दूसरे टुकड़े में बाल निलका। वहीं जैसे ही उनसे तीसरा टुकड़ा तोड़ा तो उसे अपने पति की मृत्यु की खबर प्राप्त होती है। वह यह सुनकर रोने लगी।

इसके बाद उसकी भाभी ने उसे भाई हरकत के बारे में बताती है। कि उसके साथ ऐसी घटना क्यों हुई। भाभी ने बताया कि करवा चौथ का व्रत बिना चांंद के टूटने से चंद्र देवता नाराज हो गए। इस बात को सुनकर उसने प्रण लिया कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार किसी भी कीमत पर नहीं होने देगी। जब तब वह उन्हें जीवन नहीं कर लेती। इसके बाद वह पूरी साल तक अपने पति की रक्षा के लिए उसके शव के पास ही रहती है।

वहीं एक साल बाद फिर करवा चौथ का व्रत आता है। सभी भाभियां एक साथ मिलकर व्रत का संकल्प लेती हैं। साथ ही सभी भाभियां साथ मिलकर उससे आशीर्वाद लेने जाती हैं। तो वह सभी भाभियों से ‘यम सूई ले लो, पिय सूई दे दो, मुझे भी अपनी जैसी सुहागिन बना दो’ ऐसा निवेदन करती है, लेकिन हर बार भाभी उसे अगली भाभी से निवेदन करने का कह चली जाती है।

इसके बाद जब छठे नंबर की भावी का आती है तो वह वो करवा को बताती है कि उसका व्रत सबसे छोटे भाई की वजह से ही खंडित हुआ था, तो उसकी पत्नी में ही शक्ति है कि वो तुम्हारे पति को जिंदा कर दे।

इसके बाद जब छोटी भाभी उसके बाद आती है, तो करना उससे सुहागिन बनने का निवेदन करती है। लेकिन वह अन्य बातें करने लगती है। लेकिन करवा उसे पकड़ लेतती है और जाने नहीं देती है।

वहीं जब बहुत देर हो जाती है, तो उसकी तपस्या को देख भाभी का ह्रदय द्रवित हो जाता है और इसके बाद वह अपनी छोटी अंगुली को चीरती है और उसमें से अमृत उसके पति में डालती है। करवा का पति उसी समय श्री गणेश कहते हुए जीवित हो उठता है। इस तरह से करवा को अपनी सुहाग वापस मिल जाता है। तभी से करवा चौथ का व्रत रखा जाता शुरू हो गया और पति की लंबी उम्र के लिए सुहागन इस व्रत को रखने लगी।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *