JEE में देश में टॉप करने वाला चिराग IIT में एडमिशन नहीं लेगा?


JEE में देश में टॉप करने वाला चिराग IIT में एडमिशन नहीं लेगा?


 

जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन यानी JEE (एडवांस्ड) 2020 के नतीजे आ चुके हैं। 5 अक्टूबर को रिजल्ट का ऐलान हुआ। पुणे में रहने वाले 18 बरस के चिराग फालोर ने टॉप किया। 396 में से 352 नंबर लाते हुए उन्होंने ऑल इंडिया रैंक- 1 हासिल की इतने सबके बाद अब चिराग ने फैसला किया है कि वो इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी यानी IIT में एडमिशन ही नहीं लेंगे। क्योंकि वो पहले ही USA के मसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) में एडमिशन ले चुके हैं और वहीं से अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं।

‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, चिराग अभी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से USA जा नहीं सके हैं, इसलिए वो MIT की ऑनलाइन क्लासेज के ज़रिए ही पढ़ाई कर रहे हैं। ऐसे तो चिराग का परिवार मूल रूप से राजस्थान का है, लेकिन चिराग जब दूसरी कक्षा में थे तब परिवार पुणे आ गया था। 10वीं तक की पढ़ाई पुणे से करने के बाद 11वीं और 12वीं की पढ़ाई चिराग ने दिल्ली से की।

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, फालोर कहते हैं कि MIT में एडमिशन मिलने के बाद भी उन्होंने IIT के लिए एग्जाम दिया, क्योंकि वो इसे भी एक्सपीरियंस करना चाहते थे।

खास अवॉर्ड भी मिल चुका है

चिराग को बाल शक्ति पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। ये अवॉर्ड 18 साल से छोटे भारतीयों को मिलने वाला सबसे बड़ा अवॉर्ड माना जाता है. जनवरी 2020 में चिराग को इससे सम्मानित किया गया था। तब पीएम नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट करके उन्हें बधाई दी थी।

एस्ट्रोनॉट बनने का सपना है

चिराग को एस्ट्रोनॉमी में खासी दिलचस्पी है। वो ज्यादातर वक्त यूनिवर्स के बारे में पढ़ते रहते हैं।  हालांकि अभी एस्ट्रोफिजिक्स की दुनिया के बारे में बहुत कुछ जानना बाकी है, लेकिन वो भविष्य में एस्ट्रोनॉट बनने का सपना देखते हैं। JEE मेन्स एग्जाम में चिराग ने देशभर में 12वीं रैंक हासिल की थी. इसके नतीजे 11 सितंबर को आए थे। 27 सितंबर को JEE एडवांस्ड का एग्जाम हुआ, नतीजे 5 अक्टूबर को आए।



Leave a Reply

Your email address will not be published.