नोटबंदी, जीएसटी, रेरा ने भरोसा बढ़ाया, हाउसिंग सेक्टर में काले धन का इस्तेमाल 80% घटा, बिक्री बढ़ी

नोटबंदी, जीएसटी, रेरा ने भरोसा बढ़ाया, हाउसिंग सेक्टर में काले धन का इस्तेमाल 80% घटा, बिक्री बढ़ी

नोटबंदी, जीएसटी, रेरा ने भरोसा बढ़ाया, हाउसिंग सेक्टर में काले धन का इस्तेमाल 80% घटा, बिक्री बढ़ी

नोटबंदी के बाद से देश के हाउसिंग सेक्टर में बड़ा बदलाव आया है। 2016 के आखिर से अब तक देश के हाउसिंग मार्केट में काले धन का इस्तेमाल 75-80% घटा है और इन्वेंटरी में भी कमी आई है। नोटबंदी से पहले के उलट नई लॉन्चिंग के मुकाबले बिक्री ज्यादा बढ़ी है। प्रॉपर्टी कंसल्टेंसी फर्म एनारॉक की। एक रिसर्च से यह जानकारी सामने आई है।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2016 में रेश लागू हुआ और उसी साल 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा कर दी गई, इसके बाद जुलाई 2017 से वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू हो गया। इन सब का रियल एस्टेट पर गहरा असर पड़ा। 2013 से लेकर 2016 की तीसरी तिमाही तक 7 बड़े शहरों में 16.15 लाख मकानों वाले नए हाउसिंग प्रोजेक्ट लॉन्च हुए थे। इसके मुकाबले 11.78 लाख मकानों की बिक्री हुई थी। लेकिन 2016 की चौथी तिमाही से लेकर 2021 की तीसरी तिमाही के बीच इन शहरों में 9.04 लाख मकानों की लॉन्चिंग के मुकाबले 10.37 लाख मकानों की बिक्री हुई।

इसे भी पढ़ें :- शेयर बाजार में बिकवाली, सेंसेक्स 314 अंक लुढ़का, निफ्टी 17,900 से नीचे बंद

एनारॉक ग्रुप के चेयरमैन अनुज पुरी ने कहा कि नोटबंदी, जीएसटी और रेरा के चलते हाउसिंग सेक्टर की एक तरफ से साफ सफाई हो गई। ज्यादातर खामियां दूर हो गई और इस बाजार पर ग्राहकों का भरोसा बहाल हुआ। इस बीच कोविड महामारी आ गई और लोगों को अपने घर की अहमियत समझ में आई। इसके चलते मकानों की बिक्री तेजी से बढ़ने लगी।

WhatsApp & Telegram Group Join Buttons
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

रिपोर्ट के मुताबिक, नए मकानों के मुकाबले पुराने मकानों के बाजार पर नोटबंदी का ज्यादा असर हुआ। दरअसल पुराने मकानों और लग्जरी हाउसिंग सेगमेंट में नकद कारोबार ज्यादा होता है। नोटबंदी ने इसी तरह की डील पर सबसे बड़ी चोट की थी। नए और किफायती मकानों में कम कैश डील के चलते यह सेगमेंट कम प्रभावित हुआ। इस सेगमेंट में डेवलपरों की बिक्री बढ़ी।

इसे भी पढ़ें :- Rewa News: रीवा-सतना सहित प्रदेश के 28 शहरों में 2035 के हिसाब से लागू होंगे मास्टर प्लान

नोटबंदी के चलते हाउसिंग मार्केट में पारदर्शिता बढ़ी

  • ब्रांडेड डेवलपर और रियल एस्टेट सेक्टर की लिस्टेड कंपनियों के हाउसिंग प्रोजेक्ट की डिमांड बढ़ी।
  • छोटे-मोटे डेवलपर, जिनका बिजनेस मुख्य रूप से कैश डील के भरोसे चल रहा था, बाहर हो गए।
  • नोटबंदी के बाद रेरा और जीएसटी जैसे बदलावों के चलते रियल एस्टेट सेक्टर में पारदर्शिता आई।
  • कम दाम पर सरकार का जोर देख बड़े डेवलपरों ने सस्ते, मिड सेगमेंट हाउसिंग पर फोकस किया।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *