CBSE Board Exam: कोविड-19 के चलते स्टूडेंट्स को बोर्ड परीक्षा में मिलेगा फायदा, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

CBSE Board Exam

नई दिल्ली। इस वर्ष सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा (CBSE Board Improvement Exam) देने वाले विद्यार्थियों के पास परीक्षा में पाए गए अंको में सुधार करने का मौका मिलेगा। पुराने नियमों के अनुसार विद्यार्थियों को किसी भी सब्जेक्ट में अपने द्वारा पाए गए कुल स्कोर में अगर सुधार करना होता था तो, उन्हें इंप्रूवमेंट पेपर देने के लिए पूरे 1 साल इंतजार करना पड़ता था।

लेकिन अब सीबीएसई बोर्ड (Cbse board) ने विद्यार्थियों (students) को परीक्षा देने वाले शैक्षणिक वर्ष में ही कंपार्टमेंट पेपर (Compartment paper) देने की सुविधा भी प्रदान करने का फैसला किया है। यह राष्ट्रीय शिक्षा नीति का एक हिस्सा है जिसका मकसद बोर्ड परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों को अच्छे से अच्छा अंक लाने का अवसर देना है।

यह भी पढ़ें – Breaking News: बैंक से जुड़ा काम करले बंद रहेंगे बैंक, जानिए किस दिन बंद रहेंगे बैंक

नया नियम

नए नियम के अनुसार कक्षा 10 कक्षा 12 के विद्यार्थियों को किसी भी सब्जेक्ट (subject) पाए गए नंबरों में सुधार करने का मौका मिलेगा। सीबीएसई ने बताया है कि विद्यार्थियों को कंपार्टमेंट एग्जाम देना होगा जो कि परीक्षाओं के तुरंत बाद आयोजित करवाया जाएगा। रिजल्ट की घोषणा करते वक्त कंपार्टमेंट परीक्षा देने वाले विद्यार्थी द्वारा दोनों परीक्षाओं में जिस परीक्षा में ज्यादा अच्छे अंक होंगे उसे रिजल्ट घोषित करने के दौरान मान्यता दी जाएगी। बोर्ड ने बताया है कि अगर विद्यार्थी अपना द्वारा दी गयी परीक्षा के परफॉर्मेंस में सुधार लाते हैं तो उनके लिए कंबाइन मार्कशीट जारी की जाएगी।

यह भी पढ़ें – Corona News: पूरी दुनिया भर में 12.27 से अधिक लोग संक्रमित, 26 लाख से अधिक की मौत

2 से ज्यादा कंपार्टमेंट पेपर के लिए

अगर किसी विद्यार्थी को 2 से ज्यादा सब्जेक्ट का कंपार्टमेंट परीक्षा देना है तो उसे साल भर इंतजार करना पड़ेगा। उन विद्यार्थियों की परीक्षा अगले बैच के साथ आयोजित कराई जाएगी। यह नया नियम इस वर्ष मई में होने वाली सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2021 से लागू हो जाएगा।

यह भी पढ़ें – Bihar : बेगूसराय में पड़ोसी ने मासूम बच्ची को जिंदा जलाया

सिलेबस घटाया गया

कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) के चलते स्टूडेंट्स के ऊपर काफी मानसिक बोझ बढ़ गया था इसलिए सीबीएसई ने हर सब्जेक्ट में से 30 परसेंट सिलेबस को घटाने का फैसला किया था। उसके साथ ही बोर्ड ने इस वर्ष की परीक्षा पैटर्न को बदलते हुए पिछले वर्षों के पेपर से 10% अधिक मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन रखने का फैसला किया है।

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *