Bird Flu Alert : मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान, पंजाब, हिमाचल, केरल में बर्ड फ्लू की दस्तक, राज्‍यों में अलर्ट, Poultry प्रोडक्ट की बिक्री पर भी रोक

मध्य प्रदेश, राजस्थान, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के साथ ही केरल बर्ड फ्लू की चपेट में आ गया है। इन राज्यों में पिछले कुछ दिनों में ही सैकड़ों पक्षियों की मौत हो गई है। ऐसे में सावधानी बरतते हुए हिमाचल प्रदेश में मछली, मुर्गे व अंडों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। राज्य सरकारों ने अलर्ट जारी करने के साथ ही स्थिति पर काबू पाने के लिए सक्रियता बढ़ा दी है। बिहार, झारखंड व उत्तराखंड में राज्य सरकारों ने सतर्कता बरतते हुए अलर्ट जारी किया है। इस बीमारी से पक्षी ही नहीं, इंसान भी प्रभावित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें – मौसम विभाग का अलर्ट 24 घंटों में कई शहरों में बारिश और ओले गिरने की संभावना

मुर्गिंयों और संक्रमित पक्षियों के पास रहने इन्सान पीड़ित हो सकते हैं। इसका वायरस आंख, मुंह और नाक के जरिये इन्सानों के शरीर में प्रवेश कर जाता है। मध्य प्रदेश में बर्ड फ्लू के मामलों की शुरुआत इंदौर शहर से हुई थी। यहां पिछले एक सप्ताह में डेली कालेज परिसर में 148 कौओं की मौत हो चुकी है। इसमें से दो कौओं के शव के सैंपल भोपाल स्थित हाई सिक्योरिटी लैब में भेजे गए थे। उनमें बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई थी। मंदसौर जिले में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। राजस्थान में बर्ड फ्लू के चलते कौओं की मौत का सिलसिला जारी है ।

सोमवार को भी प्रदेश में 110 पक्षियों की मौत हुई है । प्रदेश में अब तक 500 से अधिक कौओं की मौत हो चुकी है। राज्यपाल कलराज मिश्र ने राज्य सरकार के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया से बर्ड फ्लू पर नियंत्रण को लेकर किए जा रहे प्रयासों की जानकारी मांगी है। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में अंतरराष्ट्रीय रामसर वेटलैंड पौंग बांध में विदेशी परिदों की मौत बर्ड फ्लू से हुई है। भोपाल स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान ने विदेशी परिदों की एच5एन1 फ्लू से मौत की पुष्टि की है। इसे एवियन इन्फ्लुएंजा भी कहा जाता है। पौंग झील में अब तक 15 प्रजातियों के 1700 से अधिक विदेशी परिदे दम तोड़ चुके हैं।

यह भी पढ़ें – युवक ने उधारी नहीं चुकाया तो दोस्तों ने किया किडनैप, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

ये हैं लक्षण
बर्ड फ्लू के लक्षण आमतौर पर सामान्य फ्लू की तरह ही होते हैं। एच5एन1 ऐसा फ्लू है, जो पक्षी के फेफड़ों पर हमला करता है। इससे न्यूमोनिया का खतरा बढ़ जाता है। सांस का उखड़ना, गले में खराश, तेज बुखार, मांसपेशियों और पेट दर्द आदि इसके लक्षण हैं। छाती में दर्द और दस्त भी इसी के लक्षण हैं।

लोगों को सलाह
जिस इलाके में संक्रमण फैला है, उसमें जाते समय एहतियात बरतें। मास्क लगाकर ही जाएं। नॉनवेज खरीदते समय साफ-सफाई का खयाल रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *