Awadhesh Pratap Singh University - apsu rewa

APSU Rewa: ऑनलाइन कोर्स के लिए पोर्टल शुरू, घर बैठे करें कोर्स, ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को होगा फायदा

Awadhesh Pratap Singh University - apsu rewa

APSU Rewa: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने नई शिक्षा नीति के तहत कई नए आनलाइन कोर्स प्रारंभ किए हैं। जिनका फायदा ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को होगा। अब घर बैठे तीन महीने से अधिक के कोर्स किए जा सकते हैं। यह व्यवस्था कुछ समय पहले ही बनाई गई थी लेकिन मध्यप्रदेश में उच्च शिक्षा विभाग ने अब इस पर जोर दिया है।

विभाग ने विश्वविद्यालयों के कुलसचिवों और कालेजों के प्राचार्यों को पत्र लिखकर कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुरूप स्नातक स्तर के पाठ्यक्रमों में इंटर्नशिप, अप्रेंटिसशिप, फील्ड प्रोजेक्ट, सामुदायिक जुड़ाव एवं सेवा(चार क्रेडिट) को शामिल किया गया है। यूजीसी के स्वयं पोर्टल पर उक्त कार्यक्रमों से जुड़ी सामग्री भी अब उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए सभी कुलसचिवों और प्राचार्यों से कहा गया है कि वह प्रचार-प्रसार कराएं ताकि छात्रों को जानकारी हासिल हो सके।

Read More: Satna News: ऐसा वार्ड जहां बिजली पोल, सरकारी हैंडपंप व सार्वजनिक नाला सब कुछ निगल लिया

इसके अलावा स्वयं पोर्टल पर अलग-अलग आनलाइन कोर्स का भी ब्यौरा दिया गया है। अपनी रुचि के अनुरूप छात्र इसमें पंजीकरण कराकर पठन सामग्री भी आनलाइन प्राप्त कर सकेंगे। कोर्स तो पहले भी यूजीसी ने जारी कर दिए थे लेकिन पठन सामग्री की कमी के चलते छात्रों की रुचि इसकी ओर कम थी। इन नए कोर्स का फायदा ग्रामीण क्षेत्र के छात्रों को अधिक होगा क्योंकि उन तक संसाधनों की उपलब्धता नहीं हो पाती है।

छात्रों को प्रोत्साहित करेंगे संस्थान

यूजीसी के स्वयं पोर्टल के जरिए शुरू किए गए आनलाइन कोर्स के बारे में विश्वविद्यालय एवं कालेजों को निर्देशित किया गया है कि छात्रों को इसके लिए प्रेरित करें। इसकी जानकारी से उच्च शिक्षा विभाग को अवगत भी कराना होगा।

इन विषयों के कोर्स लिए समन्वयक भी नियुक्त

यूजीसी ने कहा है कि कुछ ऐसे पाठ्यक्रम जिनकी डिमांड है और छात्र पढऩा चाहते हैं लेकिन उन तक जानकारी नहीं होती। इसलिए कुछ महत्वपूर्ण विषयों के समन्वयक भी नियुक्त किए गए हैं जो छात्रों को आनलाइन सहायता उपलब्ध कराएंगे।

Read More: Satna News: आधी-अधूरी रोड पर टोल प्रारंभ करने की तैयारी, विधायक रामपुर का शुभारंभ कार्यक्रम में जाने से इंकार

इसमें प्रमुख रूप से भारतीय बौद्ध धर्म का इतिहास में प्रो. केटीएस सोराव दिल्ली, अभिधम्म(पाली) में प्रो. बिमलेन्द्र कुमार, बौद्ध दर्शन में प्रो. प्रदीप प्रभाकर वाराणसी, सामुदायिक जुड़ाव और सामाजिक उत्तरदायित्व पर प्रो. अक्षय कुमार सतसंगी आगरा को शामिल किया है। बौद्ध धर्म और दर्शन से जुड़े पाठ्यक्रमों पर इसलिए जोर दिया जा रहा है क्योंकि ये छात्रों को पर्यटन से जोड़ेंगे।

Read More: Good Night Images

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *