रूस के कैस्पियन तट पर मरी हुई मिलीं 170 लुप्तप्राय सील, वैज्ञानिकों ने बताया आखिर क्यों हुई हैं इनकी मौत?

 

रूस के कैस्पियन तट पर मरी हुई मिलीं 170 लुप्तप्राय सील, वैज्ञानिकों ने बताया आखिर क्यों हुई हैं इनकी मौत?
कैस्पियन सागर के तट पर मृत सील (AFP)

 

रूस (Russia) के दागिस्तान गणराज्य (Dagestan) में कैस्पियन सागर (Caspian Sea) के तट पर पिछले कई दिनों से 170 के करीब लुप्तप्राय सील (Seal) मरी हुई पाई गई हैं. रूसी रिसर्चर्स ने इसकी जानकारी दी है. ‘मॉस्को मरीन मैमल्स रिसर्च सेंटर’ के विक्टर निकिफोरोव ने गुरुवार को समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि इन मरे हुए जानवरों को हमने देखा और इनकी तस्वीरें लीं. इसके अलावा इनके जीपीएस को नोट किया गया है.

 

 

 

तस्वीरों में देखा जा सकता है कि तट पर मरी हुई सील के कंकाल पड़े हुए हैं. निकिफोरोव ने कहा, सीलों की मौतें औद्योगिक प्रदूषण, मछली पकड़ने या अवैध शिकार के कारण हो सकती हैं. इनकी मौतें जाल में फंसने की वजह से भी हुई होंगी. उन्होंने कहा, हो सकता है ये मौतें जलवायु परिवर्तन और इसी दौरान कुछ अन्य वजहों से हुई हों. मौतों के कारणों की ठीक-ठीक पहचान करने के लिए एक साल का वक्त लग सकता है.

 

 

 

 

पांच देशों तक फैला हुआ है कैस्पियन सागर

रिसर्चर्स के मुताबिक, ये सीलें दागिस्तान की राजधानी माचाचकला के दक्षिण में लगभग 100 किमी की दूर पाई गईं. वहीं उत्तरी काकेशस में रूसी संघीय मत्स्य एजेंसी ने कहा कि उसने निरीक्षकों को मृत सीलों की नई संख्या को गिनने के लिए भेजा है. जांच कमिटी ने कहा है कि ये मामले की जांच करेगी. कैस्पियन सागर रूस, कजाखिस्तान, अजरबैजान, ईरान और तुर्केमेनिस्तान तक फैला हुआ है. जमीन से चारों ओर घिरा ये दुनिया का सबसे बड़ा सागर है.

 

 

 

20वीं सदी में 10 लाख थी सीलों की आबादी

कैस्पियन सागर में दशकों से अत्यधिक शिकार और औद्योगिक प्रदूषण के चलते सीलों की तादाद कम होती जा रही हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि वर्तमान में सागर में करीब 70 हजार सीलें हैं, जबकि 20 सदी की शुरुआत में इनती तादाद 10 लाख हुआ करती थी. इस इलाके से तेल और गैस के निकालने से हुआ प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन की वजह से सागर का घटता जलस्तर यहां रहने वाले कई जीवों के संकट का विषय है.

 

 

 

दिसंबर में 300 सीलें मृत पाई गईं

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने चेतावनी दी है कि कैस्पियन सागर प्रदूषण के भारी बोझ को झेल रहा है. इससे पहले, दिसंबर 2020 में, अधिकारियों ने दागिस्तान के कैस्पियन तट पर लगभग 300 लुप्तप्राय सीलों को मृत पाया था. इनके मौत के पीछे की वजह प्रदूषण को बताया गया था.

 

 

 

 

 

 

Follow 👇

लाइव अपडेट के लिए हमारे सोशल मीडिया को फॉलो करें:

 

 

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.